हिंदी बने हमारी राष्ट्रभाषा

हिंदी बने हमारी राष्ट्रभाषा

है हर हिंदुस्तानी की आज यही अभिलाषा,
हिंदी बने हमारी अपनी राष्ट्रभाषा l
हिंदी है महान अपनी आन बान और शान,
नहीं चाहिए हमें अब उधार की भाषा l

अपनी भाषा संस्कृति से होती अलग पहचान,
अपनी भाषा से उन्नति की चढ़ेंगे हम सोपान् l
नहीं करेंगे अब अंग्रेजी की हम कभी गुलामी,
हिंदी को माथे सजा होगा जागृत सोया स्वाभिमान l

हिंदी है सबसे न्यारी हर भाषा की रानी, फिर क्यों हम बनाएं हैं अंग्रेजी को पटरानी l
हिंदी पढ़ने लिखने में है लगती कितनी प्यारी,
अंग्रेजी बढ़ाती है हर पल अपनी हैरानी l

   स्वरचित
     ©®
 निर्मला कर्ण

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

"अंतरराष्ट्रीय हिंदी दिवस"

Wed Sep 14 , 2022
“अंतरराष्ट्रीय हिंदी दिवस” पर मेरी रचना :-हमें हिंदी कहते हैं लोग, हमें हिंदी कहते हैं लोग,भारत ही नहीं विदेशों में भी, होता हमारा प्रयोग, संस्कृत माता है मेरी , ऊर्दू है मेरी बहना,हर भाषा से मिल जुलके , आता हमें है रहना,सबके विकास में किया है हमने,हरदम ही सहयोग,हमें हिंदी […]