“अंतरराष्ट्रीय हिंदी दिवस”

“अंतरराष्ट्रीय हिंदी दिवस” पर मेरी रचना :-
हमें हिंदी कहते हैं लोग, हमें हिंदी कहते हैं लोग,
भारत ही नहीं विदेशों में भी, होता हमारा प्रयोग,

संस्कृत माता है मेरी , ऊर्दू है मेरी बहना,
हर भाषा से मिल जुलके , आता हमें है रहना,
सबके विकास में किया है हमने,हरदम ही सहयोग,
हमें हिंदी कहते हैं लोग , हमें हिंदी कहते हैं लोग,

पाकर होऊंगी सम्मानित , राष्ट्रभाषा का दर्जा,
हिंदी दिवस पर होती है, खूब हमारी चर्चा,
लगा हुआ है कुछ लोगों को , अंग्रेजी का रोग,
हमें हिंदी कहते हैं लोग, हमें हिंदी कहते हैं लोग,

उत्तर, दक्षिण, पूरब, पश्चिम में, मेरा है फैलाव,
करती कभी सियासत लेकिन, मेरे बदन पर घाव,
अपने ही घर में बनी पराई , कैसा है दुर्योग,
हमें हिंदी कहते हैं लोग, हमें हिंदी कहते हैं लोग,

सच्चे ह्रदय से जिस-जिसने, हमको है अपनाया,
साहित्य सृजन करके उसने, जग में नाम कमाया,
मेरी साधना करनेवालों , रखना तू मनोयोग,
हमें हिंदी कहते हैं लोग, हमें हिंदी कहते हैं लोग,

                                         "कामेश"
                                       14-09-22

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

हिंदी दिवस

Wed Sep 14 , 2022
हिंदी दिवस आजादी के बाद से ही 1949 से हिंदी दिवस मनाया जा रहा है। भारत में हिंदी बोलने वालों की संख्या अधिक थी और है, लेकिन फिर भी स्वतंत्रता के बाद हिंदी को राष्ट्रभाषा के रूप में मानने के लिये लोग एकमत नहीं थे और हिंदी राजभाषा ही होकर […]