पिंजरा

पिंजरा

देख कर पंछी को
पिंजरे में
सदा खुशी ही हो
जरूरी तो नहीं
सबको ही हो
यह भी नहीं
मेरा मन तो हमेशा
बेचैन ही हुआ
भाव
करूणा के ही जगे
शौर्य ने ललकारा भी
पर वह पिंजरा
दूसरों का था
युद्ध का साहस
मुझमें नहीं
शायद अर्जुन में भी
नहीं था
जानता हूँ कि
पंछी को
आजाद करना भी
धर्मयुद्ध है
परन्तु
अपनी दृष्टि से
हार जाता हूँ
मुझे चारों ओर
पिंजरे ही पिंजरे
दिखाई देते हैं
अपना शरीर और
प्राण भी तो
फिर कैसे करूँ युद्ध?

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

'बौद्धिक विरासत' परियोजना

Fri Jul 15 , 2022
टेक-पावर्ड इंडिया: ट्रांसफॉर्मिंग वर्क, एम्पावरिंग पीपल”: आईटी मंत्रालय ‘हार्नेसिंग आईटी फॉर गुड गवर्नेंस’ और ‘जीवन परमान पत्र’, ‘आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन’, यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस के जरिए आत्म निर्भर इंडिया’ पर शोध करेगा। UPI), और UMANG (यूनिफाइड मोबाइल ऐप फॉर न्यू एज गवर्नेंस)।