प्रश्न

प्रश्न

बड़े बड़े यंत्र
कई जटिल संयंत्र
तुम्हारा एक स्पर्श,
एक संकेत करते ही
चल पड़ते हैं
और तुम
स्वयं को बताते हो
शक्तिमान,
कभी कभी सर्वशक्तिमान भी

पर मित्र !
तुम्हें वह स्पर्श और संकेत
करने की समझ,
शक्ति,
बुद्धि और
अवसर
तुम्हें कौन देता है?

शायद वही
जो तुम्हारे अधीन नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

'कविता चली मॉल की ओर ' कार्यक्रम सफल सम्पन्न

Mon Jul 4 , 2022
‘कविता चली मॉल की ओर ‘ कार्यक्रम सफल सम्पन्न————————————– प्रेरणा दर्पण साहित्यिक एवं सांस्कृतिक मंच और साहित्य 24 की ओर से रिलायंस मॉल द्वारका में ‘कविता चली मॉल की ओर’ कार्यक्रम सफल सम्पन्न हुआ।महाकवि डॉ कुंअर बेचैन जी के जन्मोत्सव के अवसर पर आयोजित इस समारोह की अध्यक्षता संस्था के […]